किसानों के कर्जे माफ और घरेलु बिजली के सारे बिल हाफ - अभय सिंह चौटाला

29th September 2017 | jansandesh.in

भिवानी : जननायक चौ. देवीलाल के 104 वें जन्मोत्सव के अवसर पर इंडियन नैशनल लोकदल ने भिवानी के पास निनाण गांव में चुनावी बिगुल बजा दिया। रैली में नेेता विपक्ष अभय सिंह चौटाला ने इनेलो सुप्रीमो चौ. ओमप्रकाश चौटाला का हरियाणा की जनता के नाम संदेश पढते हुए घोषणा की चौ. ओमप्रकाश चौटाला के वायदे के अनुसार अगले चुनाव के बाद सत्ता में आने पर इनेलो किसानों के कर्जे माफ और कृषि के लिए उपयोग की जाने वाले बिजली के बिल माफ और घरेलू बिजली के बिलों को हाफ कर दिया जाएगा। उन्होंने यह भी वादा किया की हर घर को सरकारी नौकरी या बेरोजगारी भत्ता देने, बुढ़ापा पेंशन और विधवा पेंशन को बढाकर 2500 रूपए मासिक करने के साथ फसल न्यूनतम समर्थन मूल्य से 100 रूपए अधिक की दरों पर खरीद का भी ऐलान किया।

चौ. ओमप्रकाश चौटाला ने याद दिलाया कि चौ. देवीलाल देश में जनकल्याण नितियों के प्रणेता थे जिसमें महिलाओं एवं कमजोर वर्ग पर विशेष ध्यान दिया जाता था। उसी परम्परा का निर्वाह करते हुए सत्ता में आने पर इनेलो कन्या के विवाह के अवसर पर पांच लाख रुपये की राशि देगी।  अभय चौटाला ने कहा कि चौ. ओमप्रकाश चौटाला का संदेश हमारे लिए आदेश है और  सत्ता में आने पर इन सभी वायदों को इनेलो पूरा करेगी। एसवाईएल के मामले में बड़ा ऐलान करते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि अगर देश व प्रदेश की भाजपा सरकार फरवरी माह तक एसवाईएल का निर्माण शुरू नहीं करवा पाती है तो मार्च माह में होने वाले लोकसभा अधिवेशन के समय इनेलो दिल्ली कूच करेगी और प्रदेश की प्यासी जनता को हर हाल में एसवाईएल का पानी दिलवाया जाएगा। अभय चौटाला ने कहा कि हरियाणा में आज हर वर्ग परेशान है। उन्होंने कहा कि किसान की फसल नहीं बिक रही। लागत मूल्य बढ़ता जा रहा है। 

अभय चौटाला ने हरियाणा की वर्तमान सरकार को हर मोर्चे पर विफल करार देते हुए कहा   कि इस सरकार के कार्यकाल में हरियाणा बार-बार जल रहा है और सरकार इसके बावजूद अपनी पीठ थपथपा रही है, इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण बात और क्या हो सकती है। अभय चौटाला ने कहा कि पहले रोहतक मेें रामपाल के डेरे और फिर जाट आरक्षण आन्दोलन में भडकी हिंसा और उसके दुखदाई परिणामों के बाद जिस प्रकार डेरा सच्चासौदा के मुखिया को दोषी करार दिए जाने के  बाद भडक़ी हिंसा सरकार की नाकामी का जीता-जागता सबूत है, उसे देखते हुए भाजपा के शासनकाल में भाजपा सरकार से किसी प्रकार की आशा नही रखी जा सकती है। 

उन्होंने कहा कि हरियाणा में आज सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। किसान अपनीफसल को औने-पौने दामों पर बेचने को मजबूर हैं, व्यापारी जीएसटी की चुनौती में उलझने के कारण खाली बैठे है।  कर्मचारी तबादलों की अनिश्चितता की मार झेल रहे है, जिस कारण सरकार कि विश्वसनियता पर प्रश्र चिन्ह लग गया है। 

अभय चौटाला ने कहा कि चौ. देवीलाल ने हरियाणा में एसवाईएल के लिए न्याय युद्ध शुरू किया था। 32 साल बाद भी नहर नहीं बन सकी, हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने नहर बनाने के आदेश भी दे दिए है। उन्होंने चेतावनी दी की यदि अगले वर्ष फरवरी माह तक इसका निर्माण कार्य आरंभ नही करती तो मार्च महीने में हरियाणा के निवास दिल्ली कूच कर सरकार को विवश कर देगे। वर्तमान भाजपा सरकार की किसान विरोध निति का उदाहरण देते हुए उन्होंने बताया कि दादूपुर-नलवी नहर का निर्माण कार्य इस सरकार द्वारा रुकवा दिया गया है, जिससे स्पष्ट हो जाता है कि वह ना तो उनकी उत्पादकता और ना ही उनकी खुशहाली की इच्छुक है। 

इस अवसर पर जेडीयू के महासचिव केसी त्यागी ने चौ. देवीलाल को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए याद दिलाया कि गत शताब्दी 70 के दशक में उन सहित अनेकों गैरकांग्रेसी युवाओं को राजनिति में कदम रखने के लिए उन्होंने ही प्रेरित किया था। रैली में आए अपार जनसमुह को देखकर उन्होंने विश्वास व्यक्त किया यह इस बात का इशारा है कि भाजपा को उखाड़ फेकने के लिये माहौल बना हुआ है। 

हिसार से युवा सांसद दुष्यंत चौटाला ने भाजपा सरकार पर आरोप लगाया कि उसने हरियाणावासियों, विशेषकर युवाओं के साथ विश्वासघात किया है। लोकसभा एंव राज्यविधानसभा के चुनावों में युवाओं से यह वायदा किया था कि उन्हें ना केवल योग्यता के अनुसार बेरोजगारी भत्ता दिया जाएगा, बल्कि उनके लिए सरकारी नौकरियों का भी प्रबंध किया जाएगा। इन दोनों वायदों को पूरा करने में असफल रही है। उन्होंने याद दिलाया कि गुरुग्राम की नीवं चौ. देवीलाल जी ने रखी थी, और उसे आधुनिक उघोग शहर बनाने में चौ. ओमप्रकाश चौटाला ने मुख्य भूमिका निभाई। परंन्तु उस शहर में हरियाणा निवासियों को जो गिनती की नौकरियां मिली वह भी निचले स्तर की थी। 



अन्य ख़बरें