इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़़ा ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल का महिलाओं के प्रति दिए बयान को बताया संवेदनहीन

16th August 2017 | jansandesh.in

 इनेलो प्रदेशाध्यक्ष अशोक अरोड़़ा ने मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की महिलाओं के प्रति संवेदनहीनता की कड़ी निंदा करते हुए उनके उस बयान की आलोचना की जिसमें उन्होंने कहा कि दुष्कर्म के ज्यादातर मामले झूठे होते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जहां मुख्यमंत्री का महिलाओं के प्रति इस प्रकार का रवैया हो वहां महिलाओं को न्याय मिलना कठिन है। 

श्री अरोड़ा ने कहा कि जिस प्रकार का व्यवहार पलवल में मुख्यमंत्री नेे एक पीडि़त महिला की शिकायत सुनने के बाद किया, उससे यह भी स्पष्ट हो जाता है कि आखिर क्यों उन्होंने श्री सुभाष बराला को अपने पुत्र की कथित गतिविधियों के बावजूद पार्टी प्रदेशाध्यक्ष बनाए रखने का समर्थन किया था। 

श्री अरोड़ा ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री की मुख्यमंत्री संवेदनहीनता के कारण वह उस महिला की पीड़ा की कल्पना भी नहीं कर सके कि सार्वजनिक रूप से जब उसे अपने पिता के साथ अपने ससुर के विरुद्ध यौन शोषण का आरोप लगाना पड़ा हो तो उसे कितना अपमानजनक अनुभव हुआ होगा। परंतु मुख्यमंत्री ने उससे संवेदना प्रकट करने और न्याय का आश्वासन देने के बजाय उसे लगभग अपमानित ही कर दिया। मुख्यमंत्री को औरतों के प्रति संवेदनशील होना चाहिए। वह यह भूल गए कि प्रदेश के मुख्यमंत्री का परिवार हो या न हो उससे यह अपेक्षा होती है कि वह राज्य के सभी निवासियों को सुरक्षा एवं न्याय का आश्वासन दें। 

परंतु पलवल में उनके द्वारा दिखाए गए व्यवहार से तो न्याय के लिए भटकती महिला को अपमान सहना पड़ा है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के ऐसे ही व्यवहार के कारण समूचा पुलिस तंत्र कानून-व्यवस्था के प्रति उदासीन है जिस कारण महिलाएं विशेष रूप से अपराधिक मानसिकता का शिकार हो रही हैं।



अन्य ख़बरें