खट्टर सरकार तुरंत मदवि की जमीन से अवैध कब्जा हटवाए - दुष्यंत चौटाला

19th September 2017 | jansandesh.in

हिसार से इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा सरकार से रोहतक के महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय की 50 एकड़ जमीन पर गऊशाला के नाम पर किए गए अवैध कब्जा को तुरंत हटवाने की मांग की है। उन्होंने शिक्षण संस्थान की जमीन पर कब्जा करने वालों के खिलाफ मुकद्दमा दर्ज कर कड़ी कार्रवाई की भी मांग की है ताकि भविष्य में कोई भी संस्था या व्यक्ति शिक्षण संस्थाओं की जमीन को गैर-कानूनी ढग़ से नाजायत हक न जाता सके। उन्होंने कहा कि इनसो ने इस संबंध में प्रदेश के मुख्यमंत्री और राज्यपाल को भी पत्र लिखाकर अपील की थी लेकिन सरकार ने उनकी मांग को अनदेखा किया है। इनसो जनहित की लड़ाई लडऩे में सक्षम है और यदि सरकार ने इस गैर कानूनी कब्जे के खिलाफ कोई कड़ा कदम नहीं उठाया तो वह स्वयं इस आंदोलन में शामिल होकर सरकार के खिलाफ आवाज बुलंद करेंगे। 

इनेलो सांसद ने कहा कि भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अमित शाह के रोहतक दौरे से कुछ दिन पहले एमडीयू की 50 एकड़ जमीन पर गऊशाला के नाम अवैध कब्जा किया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि विवि अवैध कब्जे में खट्टर सरकार की मिलीभगत की बू आ रही है क्योंकि बीजेपी और आरएसएस के लोग अप्रत्यक्ष रूप से इस मामले से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि यदि ऐसा नहीं होता तो एमडीयू प्रशासन को जमीन पर कब्जा होते ही कब्जा करने वालों के खिलाफ तुरंत पुलिस में मामला दर्ज करवाना चाहिए था और पुलिस प्रशासन से जमीन को खाली करवाने की मांग करनी चाहिए थी लेकिन मदवि प्रशासन ने खट्टर सरकार के दबाव में आरोपियों के विरुद्ध करवाई करने के बजाय अवैध कब्जे के खिलाफ आवाज उठाने वाले प्रदीप देशवाल के खिलाफ द्वेषपूर्ण भावना से कारवाई की। उन्होंने कहा कि मदवि के प्रोक्टर बोर्ड ने प्रदीप को अपना पक्ष रखने का मौका दिए बगैर उसकी पीएचडी और विवि परिसर में प्रवेश पर रोक लगा दी, जो कि पूर्ण रूप से असंवैधानिक है।



अन्य ख़बरें