गुरु जम्भेश्वर महाराज के बताए 29 नियमों का पालन सर्व समाज को करना चाहिए- दुष्यंत चौटाला

16th August 2017 | jansandesh.in

-गुरु जम्भेश्वर को बताया विश्व का प्रथम पर्यावरण संरक्षक

-जन्माष्ठमी के पावन पर्व व आजादी की वर्षगांठ पर सभी प्रदेश वासियों को दिया बधाई संदेश

हिंदुस्तान के इतिहास के अब तक के सबसे कम उम्र के सांसद दुष्यंत चौटाला ने जन्माष्ठमी के पावन पर्व के साथ साथ आजादी की  वर्षगांठ के अवसर पर पूरे प्रदेश वासियों को बधाई देते हुए सबके लिए मंगल कामना की है। युवा सांसद ने इस मौके पर बिश्नोई समाज को गुरु जम्भेश्वर भगवान के जन्म दिवस की बधाई देते हुए कहा कि आज के युग मे केवल बिश्नोई समाज के लोगो को ही नही बल्कि समाज के सभी वर्गों को गुरु महाराज के बताए 29 नियमों का पालन करना चाहिए। उन्होंने गुरु जम्भेश्वर को विश्व का प्रथम पर्यावरण संरक्षण बताते हुए कहा कि आज से सैंकड़ो वर्ष पहले उनकी प्रेरणा से रेगिस्तान की मरुभूमि में हरियाली फैली थी। जब उन्हें बिश्नोई समाज के सबसे बड़े धाम मुकाम (राजस्थान) में जाने का अवसर प्राप्त हुआ तो समाज के प्रतिनिधियों ने उन्हें जम्भ साहित्य भेंट किया था। उसका अध्ययन करने के पश्चात इन 29 नियमों की महत्ता का पता विस्तार से चला। इन्ही नियमों में वृक्षों की रक्षा और जीव दया पालनी पर विशेष जोर दिया गया है। इससे पर्यावरण तो सुरक्षित रहता है बल्कि समाज मे आपसी भाईचारा भी बढ़ता है।  सांसद दुष्यंत चौटाला ने बताया कि उनकी कोशिश रहती है कि वे जिस भी कार्यक्रम में जाते है तो एक पौधा अवश्य लगाते है। इसके अलावा वे अपने युवा साथियों को इसके लिये प्रेरित भी करते है। गुरु जम्भेश्वर महाराज की शिक्षा के अनुरूप ही जननायक चौधरी देवीलाल के जन्म दिवस पर उन्होंने अपने युवा साथियों के साथ  एक लाख पौधे लगाने का संकल्प लिया था जिसमे वे काफी हद तक लक्ष्य के करीब पहुंच चुके है।

उन्होंने बताया कि बिश्नोई समाज की पहचान पर्यावरण रक्षक के रूप में जानी जाती है खेजड़ली में 363 बिशनोई महिलाओं व पुरूषों के बलिदान को आज भी बड़ी श्रद्धा से याद किया जाता है। इसका कोई दूसरा उदाहरण विश्व के किसी कोने में आज तक सुनने को नही मिलता।

वे अपने आप को सौभाग्य शाली मानते है कि  उनके स्वयं के संसदीय क्षेत्र में बिश्नोई समाज के लोगो की संख्या बहुतायत में है जिससे उन्हें इस समाज को नजदीक से समझने का मौका मिला है।

अगर आज की युवा पीढ़ी को गुरु जम्भेश्वर महाराज के बताए गए नियमों के बारे में विस्तार से जागरूक किया जाए तो मौजूदा समाज मे फैली हुई नशे जैसी कुरीतियों को जड़ से खत्म किया जा सकता है। उन्होंने बिश्नोई समाज के साथ साथ सर्व समाज के लोगो से आह्वान करते हुए कहा कि गुरु जम्भेश्वर महाराज के बताए गए मार्ग पर चलने से ही समाज मे सन्तोष व पवित्रता की भावना आएगी।



अन्य ख़बरें